हेल्थ

बोर्ड रिजल्ट से नहीं तय होगा 55 लाख छात्रों का भविष्य, ऐसे रखें बच्चों को मोटिवेट  – News18 हिंदी

[ad_1]

शाश्वत सिंह/झांसी: यूपी बोर्ड से 10 वीं एवं 12 वीं की बोर्ड परीक्षाओं में इस साल 55 लाख से अधिक छात्रों ने भाग लिया था. इन सभी छात्रों को अब अपने बोर्ड रिजल्ट जारी होने का इंतजार है. सूत्रों के अनुसार यूपी बोर्ड के 10वीं एवं 12वीं बोर्ड के रिजल्ट 25 अप्रैल 2024 से पहले जारी किए जा सकते हैं . 10 वीं और 12 वीं के छात्र बेसब्री से रिजल्ट का इंतजार कर रहे हैं. रिजल्ट को लेकर एक तरफ जहां छात्र और उनके पेरेंट्स उत्साहित हैं, तो वहीं कुछ छात्र रिजल्ट के इंतजार में चिंतित भी रहते हैं. इस चक्कर में छात्र बार-बार अपने मार्क्स का आंकलन करते रहते हैं. लगातार टेंशन में रहने की वजह से बच्चों को नींद भी नहीं आती है.

ऐसे में माता-पिता की जिम्मेदारी बनती है की बच्चों को मोटिवेट करते रहें. पेरेंट्स को इस बात का ध्यान रखना चाहिए कि अपने बच्चों पर अत्यधिक स्ट्रेस ना डालें. अगर बच्चा परेशान नजर आए तो उसे मोटिवेट करते रहें. पेरेंट्स को बच्चों का सपोर्ट सिस्टम बनना चाहिए. मेंटल हेल्थ एक्सपर्ट दीक्षा भारद्वाज ने बताया कि पेरेंट्स बच्चों को इस बात का एहसास कराएं की यह मात्र एक परीक्षा है. आपका भविष्य इस रिजल्ट पर तय नहीं होता है.

रिजल्ट से नहीं तय होगा छात्रों का भविष्य
दीक्षा भारद्वाज ने कहा कि आज के समय में बच्चे यह सोचते हैं कि रिजल्ट खराब आएगा तो आस-पड़ोस के लोग क्या कहेंगे. माता पिता बच्चों को इस बात का एहसास दिलाएं की रिजल्ट उनके सम्मान या अपमान से नहीं जुड़ा है. अब कॉलेजों में प्रवेश भी एंट्रेंस एग्जाम के आधार पर मिलता है. इसलिए मार्क्स को लेकर बहुत ज्यादा परेशान न रहें. बच्चों को खुश रखने का प्रयास करें.

Tags: Health News, Jhansi news, Life18, Local18, Uttar Pradesh News Hindi

[ad_2]

Source link